Saturday, September 17, 2005

आदाब जनाब...

अपनी ढपली लेकर मैं पुरु ब्लॉग संसार में हाज़िर हूं। भईया, अपनी ढपली है तो अपना ही राग सुनाएंगे। मन में जो होगा सो बताएंगे। फिलहाल तो ये ब्लॉग बनाया है, इसलिए आज कुछ नहीं...कल से यहां अपना बाजा बजाएंगे।
पुरु

2 Comments:

Blogger अनुनाद सिंह said...

स्वागत है आपकी ढपली का ।

9:10 PM  
Blogger अनूप शुक्ल said...

स्वागत है आपका हिंदी ब्लागजगत में.

6:50 AM  

Post a Comment

<< Home